सांचौर : वृद्धा की हत्या का राजफाश, चचेरे भाई के साथ मिलकर बाल अपचारी ने दिया वारदात को अंजाम

सांचौर @ अर्थ न्यूज नेटवर्क


शहर के रेबारियों का गोलिया में एक वृद्धा की हत्या कर आभूषण व नकदी चुराने का मामले का पुलिस ने दूसरे दिन ही वारदात का पर्दाफाश कर लिया। इस मामले में पुलिस ने पड़ोस में रहने वाले एक बाल अपचारी को संरक्षण में लेने के साथ ही उसके चचेरे भाई को गिरफ्तार किया है।
पुलिस के अनुसार बुधवार को सांचौर के रेबारियों का गोलिया वास में एक वृद्धा की लाश उसके बंद मकान में मिली थी। इस सम्बंध में वृद्धा के पुत्र बाबुलाल पुत्र खीमचंद जैन ने पुलिस में रिपोर्ट पेश की थी। इस पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जसाराम बोस एवं वृत्ताधिकारी गणेशराम के दिशा निर्देश में थानाधिकारी सुरेन्द्रसिंह मय जाप्ता सरवाना थानाधिकारी बाबुलाल, चितलवाना थानाधिकारी वगतसिंह की नेतृत्व में टीमें गठित कर फोरेेंंसिक यूनिट बाड़मेर की टीम के साथ घटनास्थल का बारीकी से निरीक्षण किया। इस दौरान टीमों ने घटनास्थल से साक्ष्य संकलित किए। प्रकरण में विभिन्न तकनीकी पहलुओं पर अनुसंधान किया गया। जांच के दौरान पुलिस को घटनास्थल के पड़ोस में किराए के मकान रहने वाले बाल अपचारी एवं उसके चचेरे भाई गणपत पुत्र मसराराम सोनी की गतिविधियों पर संदेह हु़आ। जिस पर पुलिस ने दोनों को दस्तयाब कर पूछताछ की। पूछताछ में गणपतलाल व बाल अपचारी ने चोरी करने के नीयत से वद्धा की हत्या कर उसके शरीर पर पहने आभूषण एवं घर में रखे आभूषण व नकदी चुराना कबूल किया। दोनों से गहन अनुसंधान करने पर सामने आया कि गणपतलाल दीपावली से दो-तीन दिन पूर्व अपने गांव हर्षवाड़ा से सांचोर अपने रिश्ते में चचेरे भाई बाल अपचारी से मिलने सांचौर आया था। गणपत ने अपने चचेरे भाई के साथ पड़ोस में रहने वाली वृद्ध होलीदेवी को घर में अकेली रहने एवं उसके पास धन होने की संभावना को देख लूटने की योजना बनाई। इसके लिए इन्होंने उस पर नजर रखना शुरू किया। लेकिन होली देवी के घर में और भी किरायेदार होने के कारण दीपावली से पूर्व इनको कामयाबी नहीं मिली। जिस पर इन्होंने ३१ अक्टूबर की शाम को वृद्धा को घर अकेली देख उसके घर की रैकी की। इस दौरान घर में आहट होने पर होलीदेवी डर गई। उसे चोरों के आने का आभास हुआ तो उसने पड़ोसियों को अपने घर सोने के लिए बुलाया। योजना के मुताबिक गणपतलाल उसके घर सोने गया। होलीदेवी को नींद आने पर गणपत ने अपने चचेरे भाई को फोन कर होलीदेवी के घर पर बुलाया तथा नींद में ही उसकी गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। होलीदेवी के पहनी हुई चार सोने की अंगुठियां व एक सोने की चेन निकाल ली। होलीदेवी के कमरे में रखी चाबी लेकर अलमारी खोली और वहां से सोने-चांदी के आभूषण एवं नकदी चुराकर दोनों ने होली देवी की लाश को उसके कमरे में खाट पर ही लिटाकर कमरे के दरवाजे पर ताला लगा दिया। इसकेबाद दोनों रात को ही अपने घर चले गए। पुलिस ने बाल अपचारी को संरक्षण में ले लिया। वहीं गणपतलाल को गिरफ्तार कर लिया। दोनो ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया। दोनो की निशानदेही पर वृद्धा के घर से चुराए गए आभूषण एवं नकदी तथा मकान की चाबियां बरामद करने की कार्यवाही जारी है। फिलहाल, पुलिस दोनों ने पूछताछ कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Page generated in 0.843 seconds. Stats plugin by www.blog.ca