जालोर के इन गांवों में आज है खुशी की लहर, जानें वजह…

भाद्राजून @ अर्थ न्यूज नेटवर्क


जिले के सबसे बड़े बाध बांकली से शुक्रवार को सिंचाई के लिए नहरों में पानी छोड़ा गया। जल वितरण कमेटी के अध्यक्ष सहित ग्रामीणों की मौजूदगी में विधिवत पूजा अर्चना कर नहरों में पानी छोड़ा गया। लेकिन इस दौरान जल संसाधन विभाग के अधिकारियों की नदारदगी चर्चा का विषय बनी रही। इस सम्बंध में विभागीय अधिकारी भी गोलमोल जवाब देते नजर आ रहे हैं।
गौरतलब है कि गत तीन अक्टूबर को जल वितरण को लेकर बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिला व ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों तथा जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी में 28 अक्टूबर को नहरों में पानी छोडऩे का निर्णय हुआ था। ऐसे में शुक्रवार को सुबह नौ बजे ग्रामीण व प्रशासन की मौजूदगी में नहर संख्या एक में पानी छोड़ा गया। इससे पहले पूजा अचर्ना व सर्व मंगल की कामना की गई। फिलहाल, सिंचाई के लिए दो में से एक में ही पानी छोड़ा गया है। शनिवार तक नहर के सभी टेल तक पानी पहुंचने की संभावना है। इससे क्षेत्र के तोड़मी, घाणा, रामा, भोरड़ा, बाला व बिजली गांवों के किसानों को सिंचाई के लिए पानी मिलेगी। वहीं नहर संख्या 2 से पाली जिले के सिराणा, पाती, हंजावा आदि गांवों के खेतों में सिंचाई के लिए पानी दिया जाएगा। इधर, नहर में पानी छोडऩे के बाद ग्रामीणों में खुशी की लहर है। लोग जगह-जगह पूजा-अर्चना कर पानी का स्वागत कर रहे हैं। इस मौके जल वितरण कमेटी के चेयरमैन जोराराम, सदस्य दलपतसिंह, वेलाराम मोतीसरी, केराराम बिजली, भाद्राजून चौकी प्रभारी शैतानसिंह बिश्नोई, कांस्टेबल राजेन्द्र कुमार, देवीसिंह जोधा, रमेश मीणा, पप्पुराम सेलड़ी, कैलाश गर्ग समेत कई ग्रामीण मौजूद रहे।

नदारद रहे जल संसाधन विभाग के अधिकारी
बांकली बांध जिले का सबसे बड़ा बांध है। इससे क्षेत्र के कई गांवों में सिंचाई होती है। लेकिन शुक्रवार को जल वितरण के दौरान जल संसाधन विभाग का कोई भी अधिकारी मौके पर मौजूद नहीं था। ऐसे में ग्रामीणों ने ही बांध का गेट खोलकर नहरों में पानी की निकासी की। जल वितरण कमेटी के चेयरमैन ने बताया कि जल संसाधन के अधिकारियों ने जल वितरण कमेटी को बांध का गेट खोलने की बात कही है। इधर, ग्रामीणों ने भी नाराजगी जताते हुए कहा कि बांध से जल वितरण जैसे महत्वपूर्ण कार्य के दौरान विभागीय अधिकारियों की नदारदगी बड़ी लापरवाही है।

बांध का दौरा करेंगे
पानी तो नहर में छोड़ दिया होगा। वैसे शाम को बांध का दौरा करेंगे। इस सम्बंध जानकारी के लिए कनिष्ठ अभियंता से सम्पर्क करें।
– हरीश बाबू शर्मा, अधिशासी अभियंता, जल संसाधन विभाग, जालोर
पारिवारिक कार्य से बाहर हूं
मैं पारिवारिक कार्य से बाहर हूं। इसके अलावा विभाग में कर्मचारियों की भी कमी है। इस कारण नहरों में पानी छोड़ते समय में विभागीय अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचे।
– दयालसिंह जोधा, कनिष्ठ अभियंता, जल संसाधन विभाग, जालोर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Page generated in 0.774 seconds. Stats plugin by www.blog.ca