नवोदयन हीरो शहीद फैयाज को दी कैण्डल मार्च से श्रद्धांजलि

जालोर @ अर्थ न्यूज नेटवर्क


सेना के शहीद लेफ्टिनेंट उमर फैयाज को रविवार शाम जिला मुख्यालय पर कैंडल मार्च निकालकर श्रद्धांजलि दी गई। जवाहर नवोदय विद्यालय पूर्व छात्र परिषद के तत्वावधान में निकाले गए मार्च में बड़ी तादाद में युवाओं ने भाग लेकर शहीद को श्रद्धांजलि दी।

शहर के हॉस्पीटल चौराहा से शाम करीब सात बजे कैण्डल मार्च निकाला गया। जो शहर के मुख्य मार्गों से गुजरते हुए शहीद स्मारक पहुंचा। इस दौरान मार्च में शामिल हुए नवोदय विद्यालय के पूर्व छात्रों व शहर के युवाओं ने शहीद उमर की शहादत में नारे लगाए। युवाओं ने ‘उमर फैयाज अमर रहे’, ‘हिंदुस्तान जिंदाबाद’, ‘भारत माता की जय’ और वंदे मातरम जैसे नारे लगाए। मार्च में शामिल नवोसा अध्यक्ष रेशाराम सुंदेशा ने कहा कि अनन्तनाग नवोदय के छात्र लेफ्टिनेंट शहीद उमर ने एक बार फिर से शहीद भगतसिंह की याद दिला दी। जिस उम्र में हम लोग अपना लक्ष्य तक निर्धारित नहीं कर पाते। महज उसी 22 वर्ष की उम्र में कट्टरपंथियों की कु्ररता के कारण वो शहीद हो गए। शहीद लेफ्टीनेंट उमर की शहादत पूरा देश याद रखेगा। समस्त नवोदय परिवार ही नहीं अपितु पूरा राष्ट्र उनका शहादत का ऋणी रहेगा। नवोसा के ईश्वर कुमावत ने कहा कि इस घटना से सब को दुख पहुंचा है। देश ने एक उभरता हुआ सेना का अफसर खो दिया। इस दौरान युवाओं ने दो मिनट का मौन रखकर शहीद उमर को श्रद्धांजलि अर्पित की। कैण्डल मार्च में बड़ी तादाद में युवाओं ने भाग लिया।

 

नवोदय विद्यालय के छात्र रहे शहीद उमर

शहीद उमर फैयाज कश्मीर के सरसुना कुलगाम के निवासी है। वे जवाहर नवोदय विद्यालय के अनंतनाग के छात्र रहे हैं। शहीद लेफ्टिनेंट उमर उन सैन्य अधिकारियों में शुमार है, जो कम उम्र ही सेना में उच्च पद पर पदस्थ थे।

आतंकियों ने किया था अगवा

गौरतलब है कि लेफ्टिनेंट (डाक्टर) उमर फैयाज दक्षिण कश्मीर के हरमेन शोपियां में अपनी मौसी के घर शादी की दावत मेंं गए थे। जहां से आतंकियों ने उन्हें अगवा किया था। बाद में गोलियों से उन्हें छलनी कर शव फेंक दिया था। शहीद उमर के श्रद्धांजलि देने के लिए देशभर में सभाओं का आयोजन किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Page generated in 0.864 seconds. Stats plugin by www.blog.ca