तेजाब हत्याकांड के इस आरोपी ने जेल से बाहर आते ही लालू को बताया अपना नेता

बहुचर्चित तेजाब हत्या कांड में हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद शनिवार सुबह आरजेडी नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन जेल से रिहा हुए। इस बाहुबली नेता को कुछ दिनों पहले एक पत्रकार की हत्या के आरोपों में घिरने के बाद सीवान से भागलपुर जेल में शिफ्ट किया गया था। खबरों के मुताबिक जेल से रिहा होने के बाद शहाबुद्दीन करीब 1300 गाडिय़ों के काफिले के साथ सीवान जाएंगे। जेल से बाहर आने की सूचना मिलते ही सीवान प्रशासन ने चौकसी बढ़ा दी है।
रिहाई पर बीजेपी ने आपत्ति जताई है साथ ही कहा कि जंगल राज के प्रतीक रहे शहाबुद्दीन के बाहर आने की खबर से लोग सहम गए हैं। जेल से बाहर आने के बाद शहाबुद्दीन ने लालू प्रसाद यादव को अपना नेता बताया। इससे पहले शाहबुद्दनी ने कहा कि लालू ही हमारे नेता हैं। मुझे उनके ही छत्रछाया में रहना है। मैं अपनी छवि क्यों बदलूं? मैं जैसा हूं, 26 साल तक लोगों ने मुझे इसी रूप में स्वीकार किया है। सब जानते हैं कि मुझे फंसाया गया था। कोर्ट ने मुझे जेल भेजा और अब कोर्ट ने ही मुझे आजाद किया है।

File Photo Of shahabuddin
File Photo Of shahabuddin
  • यह था मामला
  • शहाबुद्दीन ने दो भाइयों की तेजाब से नहलाकर हत्या करने और बाद में हत्याकांड के इकलौते गवाह उनके तीसरे भाई राजीव रौशन की हत्या करने के मामले में भागलपुर जेल में बंद थे। इस हत्याकांड में उन्हें हाई कोर्ट से फरवरी में ही जमानत मिल चुकी थी। बुधवार को चश्मदीद गवाह की हत्या के मामले में भी अदालत ने उनकी जमानत मंजूर कर ली। इसके बाद उनकी रिहाई हुई।
  • ऐसे शुरू हुई शहाबुद्दीन…
    शहाबुद्दीन के अपराध की कहानी 15 मार्च 2001 को लालू की पार्टी के एक नेता को गिरफ्तार करने आए पुलिस ऑफिसर संजीव कुमार को थप्पड़ मारने से शुरू हुई थी। इस घटना के बाद शहाबुद्दीन के समर्थकों और पुलिस के बीच काफी लंबी झड़प हुई। थप्पड़ मारने वाले शहाबुद्दीन के घर पुलिस ने छापेमारी की। इस दौरान शहाबुद्दीन के समर्थकों और पुलिस के बीच गई घंटों तक गोलीबारी हुई। इस घटना में 10 लोग मारे गए और पुलिस को खाली हाथ लौटना पड़ा। तभी से उन्हें एक बाहुबली के रूप में पहचाना जाने लगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Page generated in 0.671 seconds. Stats plugin by www.blog.ca