जालोर विधायक जनता के पैसों की कर रही फिजूलखर्ची : विकास कार्य करवाने के बजाय जिला प्रमुख को दिलवा दी टाटा सफारी

अर्थ न्यूज. जालोर

क्षेत्र के विकास के लिए विधायकों को मिलने वाली विधायक कोष की राशि का किस तरफ फिजूलखर्च हो रहा है इसका एक बड़ा गंभीर मामला सामने आया है। जालोर विधायक अमृता मेघवाल ने विधायक कोष की राशि से 14 लाख रुपए जिला प्रमुख को गाड़ी खरीदने के लिए दे दिए। जिला प्रमुख ने गत साल ही स्वीफ्ट गाड़ी खरीदी थी, लेकिन आराम से घूमने के लिए लग्जरी टाटा सफारी गाड़ी खरीद ली। ऐसे में विधायक कोष के इन 14 लाख रुपए का पूरी तरह फिजूलखर्च हो गया।

कभी जालोर विधायक के पति बाबूलाल मेघवाल की जेब में रहते थे महज 10 हजार रुपए और सिर पर था ढाई लाख का कर्ज, लेकिन चार साल में ही खड़ी कर दी करोड़ों की सपंत्ति

विकास कार्यों में लगाने के बजाय गाड़ी खरीद की

विधायक अमृता मेघवाल को विधायक कोष से मिलने वाली राशि का उपयोग क्षेत्र के विकास के लिए करना चाहिए था, लेकिन विधायक ने जिला प्रमुख को 14 लाख रुपए दे दिए ताकि जिला प्रमुख लग्जरी गाड़ी का आनंद ले सके। क्योंकि जिला प्रमुख का गृह क्षेत्र नेहड़ होने के कारण गत साल खरीदी स्वीफ्ट गाड़ी में स्वयं को असहज महसूस कर रहे थे, ऐसे में आराम से गृह क्षेत्र तक पहुंच सके इसके लिए लग्जरी वाहन टाटा सफारी गाड़ी खरीद कर ली। विधायक अमृता मेघवाल का कहना है कि उन्होंने नियमों के तहत चौदह लाख रुपए दिए हैं।

एक साल पहले खरीदी थी गाड़ी

सत्ता में आने के बाद ये जनप्रतिनिधि किस तरह जनता के रुपए का दुरुपयोग करते हैं इसका यह उदाहरण मुख्य है। जिला प्रमुख ने गत एक साल पहले ही स्वीफ्ट गाड़ी थी। जिसके बाद अब यह 14 लाख रुपए में टाटा सफारी खरीद कर ली। जिला प्रमुख से आम जनता यह पूछता चाहती है कि क्या बन्नेसिंह गोहिल आम आदमी होते और यदि उन्हें स्वयं के जेब से यह रुपए देने होते तो क्या वो एक साल पहले खरीदी गाड़ी को हटाकर अब 14 लाख रुपए की लग्जरी टाटा सफारी गाड़ी खरीदते। जबाव आएगा नहीं, क्योंकि वहां स्वयं की जेब से खर्च हो रहा है तो बड़ा सोच-समझकर करेंगे, लेकिन सरकारी पैसा और जनता का पैसा खर्च करना है तो एक बार भी सोचना तो दूर, संकोच तक नहीं करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Page generated in 0.801 seconds. Stats plugin by www.blog.ca
error: