16 करोड़ में बिका यह पुराना फोन, पढ़ें इस फोन की खासियत…

अर्थन्यूज नेटवर्क

अमेरिका के एलेक्जेंडर हिस्टोरिकल ऑक्शंस हाउस ने रविवार को एक पुराने फोन की नीलामी की। नीलामी की बड़ी बात यह है कि यह फोन 2 लाख 43 हजार डॉलर यानि करीब 16 करोड़ से ज्यादा में नीलाम हुआ। कारण यह था कि यह जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर का निजी फोन था।

जानकारी के अनुसार इस फोन को द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान एक बंकर से तब बरामद किया गया था जहां हिटलर ने खुशकुशी की थी। ऐसा माना जा रहा है कि हिटलर ने इस फोन का इस्तेमाल आखिरी वक्त में कुछ आदेशों को देने के लिए किया हो। नीलामी हाउस ने इसकी जानकारी नहीं दी कि इतनी अधिक राशि में इस फोन को किसने खरीदता है। उन्होंने सिर्फ इतना बताया कि फोन उत्तर अमेरिका के किसी निजी संग्रहकर्ता के पास गया है।

सीमेंस कम्पनी का था यह फोन

इस फोन को जर्मन की कंपनी सीमेंस ने बनाया था। यह 1945 से ही इंगलिश ग्रामीण इलाके में एक ब्रीफकेस में रखा गया था। सूची में इसकी व्याख्या सर्वकालिक विनाशकारी हथियार के रूप में की गई है, जिसने लाखों लोगों को मौत तक पहुंचाया। इसके लिए बोली की शुरुआत 1,00,000 डॉलर से की गई थी।

काले रंग के फोन को किया गया पेन्ट

नीलामी से पहले यह फोन इंग्लैंड के 82 वर्षीय रानुल्फ रेनर के पास चमड़े के एक ब्रीफकेस में बंद था। रानुल्फ को यह फोन उनके पिता ब्रिगेडियर राल्फ रेनर से मिला था, जो हिटलर के बंकर में दाखिल होने वाले संभवत पहले गैर-सोवियत सैनिक थे। हिटलर को यह फोन नाजी जर्मनी के सशस्त्र बलों की ओर से मिला था, जिसका इस्तेमाल उसने द्वितीय विश्वयुद्ध के आखिरी दो वर्षों में किया। हिटलर ने वाहन या रेल से यात्रा के दौरान इस फोन का इस्तेमाल करने के साथ-साथ सैन्य मुख्यालय में भी किया। मूलरूप से यह काले रंग का था, लेकिन बाद में इसे लाल रंग में पेंट किया गया।

फोन पर हिटलर का नाम

इस फोन के पीछे बड़े अक्षरों में एडोल्फ हिटलर का नाम साफ नजर आता है। इस पर उत्कीर्ण चील व स्वस्तिक के निशान भी स्पष्ट नजर आ रहे हैं। नीलामी घर ने इसे च्हिटलर का विनाशकारी मोबाइल उपकरणज् करार देते हुए यह भी कहा कि नाजी नेता ने 30 अप्रैल, 1945 को खुदकुशी से पहले संभवत अपने कुछ आखिरी आदेश इस फोन के जरिये दिए हों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Page generated in 0.967 seconds. Stats plugin by www.blog.ca