नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में जेल में बंद पटवारी पर रिश्वत लेने पर एसीबी में भी दर्ज हुआ केस

जालोर

बागोड़ा तहसील के जैसावास गांव के पटवारी रमेश बुड़ानिया पर रिश्वत लेने के मामले में एसीबी ने मुकदमा दर्ज किया है। गौरतलब है कि पटवारी बुड़ानिया नाबालिग से दुष्कर्म के प्रयास के आरोप में अभी जेल में बंद है।

यह था मामला

बागोड़ा निवासी जबरसिंह, रणजीतसिंह, भवानीसिंह पुत्र देवीसिंह राजपूत की जैसावास में उमाराम पुत्र सालुराम देवासी से खरीदी हुई 2.81 हैक्टेयर कृषि भूमि है। किसी विवाद को लेकर राजस्व मंडल अजमेर में मामला विचाराधीन होने से म्यूटेशन पर स्टे था। 1 सितंबर, 2016 को दोनों पार्टियों के आपसी राजीनामा पेश करने पर राजस्व मंडल अजमेर की ओर से विड्रो कर दिया था। पटवारी रमेश बुड़ानिया ने जबरसिंह के नाम से कोर्ट का स्टे हटाने का सरकारी रिकॉर्ड में इंद्राज किया था। इसके बाद इस भूमि का बेचान जबरसिंह ने मसराराम की पत्नी सीतादेवी व रुड़ाराम की पत्नी पंकीदेवी को बेचान की थी। इस बेचान को 7 सिंतबर को उप पंजीयक बागोड़ा में पंजीयन करवाया गया था।

70 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी

पटवारी रमेश बुड़ानिया ने बेक डेट में म्यूटेशन भरवाने की एवज में 20 हजार रुपए लिए थे। मसराराम की पत्नी सीतादेवी व उसके भाई रुडाराम की पत्नी पंकीदेवी के नाम से तहसील बागोड़ा में रजिस्ट्री करवाई गई। म्यूटेशन भरवाने के लिए 7 सितंबर को ही शाम पुन पटवारी रमेश बुड़ानिया से मिलने के लिए मोरसीम गया तो पटवार घर मोरसीम में पटवारी ने ग्राम पंचायत से पास करवाने की एवज में 50 हजार रुपए मांगे।

अनुसंधान के बाद दर्ज किया मामला

शिकायत मिलने के बाद अनुसंधान किया गया था। 20 हजार की रिश्वत लेने तथा 50 हजार मांगने का सत्यापन होने के बाद जयपुर मुख्यालय फाइल भेजकर मुकदमा दर्ज की सिफारिश की थी। अब मुकदमा दर्ज हुआ है। विस्तृत अनुसंधान किया जाएगा।
– अन्नराज राजपुरोहित, पुलिस उप अधीक्षक, एसीबी चौकी, जालोर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Page generated in 0.558 seconds. Stats plugin by www.blog.ca