गरीबी में बिताया था जीवन, अब अपनी संपत्ति का 75 फीसदी तक करेंगे दान, जानिए कौन है यह दानवीर…

नई दिल्ली. प्रसिद्ध कंपनी एलएनटी के प्रमुख ए.एम नाईक अपनी कुल संपत्ति का 75 फीसदी हिस्सा दान करेंगे. अपने पद से मुक्त होने जा रहे नाईक ने यह घोषणा की है. बड़ी इंजीनियरिंग कंपनी लार्सन एंड टॉर्बो के मुखिया ए. एम. नाईक ने एक इंटरव्यू में इस दान को अपनी व्यक्तिगत इच्छा बताया. नाईक ने बताया कि उनके पिता और दादा के पास पैसे नहीं थे और उन्होनें अपना जीवन गरीबी में बिताया इसलिए उन्होनें अपनी कुल कमाई का 75 फीसद हिस्सा दान में देने का निश्चय किया है।

नाइक ने दो चैरेटी संगठन की शुरुआत की है. एक चैरेटी ट्रस्ट में वे बच्चों की शिक्षा और कौशल विकास के लिए काम करेंगे. जबकि दूसरा ट्रस्ट निर्मल मेमोरियल मेडिकल ट्रस्ट गरीबों के इलाज संबंधित कार्य करेगा. इस ट्रस्ट का नाम उन्होनें अपने पोती के नाम पर रखा हैं जिसकी मौत 2007 में कैंसर से जूझते हुई थी.

सूत्रों के मुताबिक यह कोई नई बात नहीं हैं नाइक काफी वक्त से सामाजिक कार्यों के लिए दान देते रहे हैं और वे 1995 से अब तक करीब 125 करोड़ रुपए दान कर चूके हैं. गुजराती मूल के नाइक के एनजीओ में उनकी बहन भी उनकी मदद करती हैं. फिलहाल वे स्कूलों और अस्पतालों के निर्माण में व्यस्त हैं.
नाइक के मुताबिक वे अपनी जन्मभूमि और कर्मभूमि के लिए काम करना चाहते हैं. एलएनटी की कामयाबी और विस्तार में नाइक का काफी योगदान रहा हैं. इस कंपनी में उन्होनें 1965 में बतौर जूनियर इंजीनियर शुरुआत की थी. 1999 में वे कंपनी के सीईओ बनें. 2003 में पदोन्नत होकर चैयरमैन बनें. 2012 में उनके चैयरमैन का कार्यकाल बढ़ा दिया गय़ा था. अपने लंबे करियर के बाद नाइक ने पदमुक्त होने का फैसला किया हैं. वे 2017 में एलएनटी को अलविदा कह देगें.
नाइक के फैसले के बाद डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर एस.एन सुब्रमण्यम सितंबर 2017 से एलएनटी में उनकी जगह लेगें. सूत्रों के मुताबिक कंपनी की कामयाबी के लिए नाइक बतौर नॉन एक्सक्यूटीव चैयरमेन संस्थान से जुड़े रहेगें. एलएनटी को ग्लोबल मार्केट में इस मुकाम पर पहुंचाने का श्रेय भी नाइक को ही जाता हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Page generated in 0.860 seconds. Stats plugin by www.blog.ca